शेयर मार्केट क्या है,कैसे सीखे जानिए हिंदी में- What is Share Market

दोस्तों क्या आप शेयर मार्केट के बारे में सभी जानकारी विस्तार पूर्वक जानना चाहते हैं Share Market क्या है | तो आप बिल्कुल सही पेज पर आए हैं| इसमें आपको Stock Market के बारे में सभी जानकारी हिंदी में सीखने को मिलेगी| इस पोस्ट में आपको शेयर बाजार से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे| जैसे शेयर मार्केट क्या है| शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें| Investment के लिए खोले जाने वाले Account कौन से हैं| शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए| Share market को समझने के लिए Best Book कौन सी हैं| तथा Share market को पढ़ने के लिए Best Institute और Course कौन से हैं| यह सभी जानकारी आपको इस पोस्ट में जानने को मिलेगी|

Share Market Kya Hai

Table of Contents

Share Market क्या है – Share Market वह Market होती है| जहां पर अलग-अलग Company के Share खरीदने और बेचने का काम किया जाता है| शेयर मार्केट भी अन्य मार्केट की तरह सामान्य ही होती है| शेयर बाजार एक ऐसी जगह है| जहां पर Share market में अकाउंट कैसे खोलें? बहुत सारी Company Listed होती हैं| और यह कंपनीया अपने कुछ शेयर आम जनता को प्रदान करने का मौका देती है| इन के शेयर के दाम भी अलग-अलग होते हैं| बहुत लोग ऐसे होते हैं| जो Company से Share को खरीदते हैं| तथा उनका दाम बढ़ जाने पर उन्हें बेच देते हैं| और इस प्रकार से पैसा कमाते हैं| आपको बता दें कि Company के Share के दाम Fix नहीं होते हैं| कम या ज्यादा होते रहते हैं|

बहुत से लोग कंपनियों से शेयर खरीदते ही इसलिए हैं| ताकि उनको आने वाले समय में अधिक Return मिल सके|और उनको भारी फायदा हो| Share Market का काम आप Offline के साथ Online भी कर सकते हैं|

Share Market Kya Hai

शेयर बाजार के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी

Share Market एक ऐसी Market है| जहां पर Company अपने शेयर को मार्केट में आम जनता की खरीद के लिए जारी करती हैं| और इसी के जरिए कंपनियां अपने बिजनेस में हिस्सेदारी खरीदने का मौका जनता को देती है| जो लोग शेयर खरीदना चाहते हैं| वह लोग कंपनी के हिस्सेदार बन जाते हैं| शेयर खरीदने से पहले आपको मार्केट के और यहां के काम करने के तरीके का ज्ञान होना जरूरी होता है| जो लोग Share खरीदना चाहते हैं| उनको काम करने के तरीके के साथ- साथ इसमें कैसे और कब Invest किया जाए| इस बात की जानकारी भी होनी चाहिए| आपको यह भी पता होना चाहिए कि किस प्रकार से पैसे लगाना आपको मुनाफा दिलवा सकता है| आपकी सभी बातों की जानकारी होना इसलिए जरूरी होता है| कि आपको मुनाफा ना हो तो आप को किसी प्रकार का नुकसान भी ना हो सके|

Referral Code Kya Hota Hai
Bijli Meter Change Application

Share Market क्या है

शेयर बाजार में कई बार जोखिम भी उठाने पड़ जाते हैं| इसलिए इस पर निवेश तभी करें जब आप की Share market में अकाउंट कैसे खोलें? आर्थिक स्थिति ठीक चल रही हो| जिससे यदि आपको कोई जोखिम उठाना भी पड़े तो आप पर कोई खास फर्क ना हो| ऐसा जरूरी नहीं है कि आपको Share Market में नुकसान ही उठाना पड़े| यदि आपको सभी जानकारी होगी और आप सोच समझकर इस पर निवेश करेंगे| तो आपको बहुत अधिक लाभ होगा|

यदि किसी भी Stock की कीमत में किसी भी तरह का उतार-चढ़ाव होता है| तो वह उतार चढ़ाव उस कंपनी की स्थिति पर निर्भर करता है| और अगर हम स्टॉक मार्केट की बात करें तो यह एक ऐसी मार्केट होती है| इसमें बहुत ही कम समय में पैसे कमाए जा सकते हैं| लेकिन अगर इसमें मुनाफा ना हुआ| तो इसमें आपके पैसे डूबने की संभावना रहती है| मुनाफा होना और ना होना उस Company के उतार-चढ़ाव पर निर्भर करता है| जिससे आपने Share खरीदा है|

शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें

यदि आप शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं| तो आप यह निवेश ऑफलाइन तथा ऑनलाइन दोनों प्रकार से कर सकते हैं| Invest चाहे आप किसी भी प्रकार से करें| लेकिन इसमें आपको एक Stock Broker की आवश्यकता होती है| क्योंकि Share Market में Invest करने के लिए आप Direct प्रवेश नहीं कर सकते| इसीलिए आपको Stock Broker की आवश्यकता होती है| क्योंकि Invester ही आपको शेयर मार्केट तक पहुंचने में आपकी मदद करता है| Share Share market में अकाउंट कैसे खोलें? Market में आपको बहुत से Broker मिल जाते हैं| जैसे- Zerodha, Sharekhan, Angel Broking, ICICI Direct आदि| इस प्रकार के ब्रोकर से संबंध उत्पन्न करके आप Account खोलने के काम को पूरा करें| जिससे आप उसमें Invest करेंगे|

Investment के लिए खोलें जाने वाले Account

इन्वेस्टमेंट के लिए खोले जाने वाले खाते दो प्रकार के होते हैं|

Demat Account एक Bank Account की तरह ही होता है| इस Account में आप Share Certificate और अन्य Security को Electronic Form में रख सकते हैं| Deamt Account का मतलब Demat Realization Account होता है| इसमें आप Share Bond Government Securities Mutual Fund Insurance ETFO जैसे Investment को रखने की प्रक्रिया आसानी से कर सकते हैं|

Trading Account एक प्रकार का Interface होता है| जो शेयरों की खरीद और बिक्री की अनुमति देता है| यह Invester के Bank और Demat Account के बीच का एक Interface के रूप में कार्य करता Share market में अकाउंट कैसे खोलें? है| Trading Account का मतलब होता है| किसी भी वस्तु या सेवा को कम दामों में खरीदना तथा उस वस्तु या सेवा के दाम बढ़ जाने पर उसे बेच कर लाभ कमाना|

TRADING ACCOUNT कैसे ओपन किया जाता है,

Zerodha

सबसे पहली बात जो हमें याद रखनी चाहिए कि ट्रेडिंग अकाउंट स्टॉक ब्रोकर के पास खोला जाता है, और सभी स्टॉक ब्रोकर एक रजिस्टर्ड कंपनी होती है, और SEBI के अनुसार भारत में अभी तक लगभग 8 हजार स्टॉक ब्रोकर कम्पनी रजिस्टर्ड है,

ऐसे में अगर हमें ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करना है तो सबसे पहले हमें ये तय करना होता है कि हम किस ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करे, आप नीचे दिए गए लिंक पर सभी रजिस्टर्ड स्टॉक ब्रोकर की लिस्ट को देख सकते है-

और इन सभी स्टॉक ब्रोकर में से हमें तय करना होगा कि हम किस ब्रोकर के पास अपना अकाउंट ओपन करे, किसी अन्य आर्टिकल में हम देखेंगे की स्टॉक ब्रोकर का चुनाव कैसे करे,

फ़िलहाल यहाँ अगर आप एक बार ये तय कर लेते है कि आपको XYZ, किस ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करना है, फिर आप उस कंपनी के नजदीकी ब्रांच ऑफिस में जाकर अकाउंट ओपनिंग फॉर्म भर कर दे सकते है, साथ आपको अपने कुछ KYC के DOCUMENTS और बैंक अकाउंट की डिटेल्स देनी होती है,

दूसरी तरफ आजकल अकाउंट ओपन करने के लिए आप स्टॉक ब्रोकर कम्पनी की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन फॉर्म और और KYC डाक्यूमेंट्स की SCANNNED COPIES को आप उस फॉर्म के साथ अपलोड कर सकते है, और बाद में आप कूरियर की मदद से अपनी SELF ATTESTED KYC डाक्यूमेंट्स और ओरिजिनल FORM कम्पनी के पास भेज सकते है, और स्टॉक ब्रोकर कंपनी जैसे ही आपके डाक्यूमेंट्स को वेरीफाई कर लेती है, और फिर आपका ट्रेडिंग अकाउंट ओपन कर दिया जाता है,

यहाँ एक बात और ध्यान रखने वाली बात है कि, अधिंकाश केस में स्टॉक ब्रोकर कम्पनी ट्रेडिंग अकाउंट और DEMAT ACCOUNT साथ ही साथ ओपन कर देती है,

ट्रेडिंग अकाउंट को हम कैसे काम में लेते है,

ट्रेडिंग अकाउंट की मदद से ही हम स्टॉक मार्केट में किसी स्टॉक को खरीदने या बेचने का आर्डर अपने स्टॉक ब्रोकर को देते है,और फिर हमारा स्टॉक ब्रोकर हमारे आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज तक पहुचाता है, और हमारा आर्डर कम्पलीट होने पर स्टॉक ब्रोकर हमें आर्डर कम्पलीट होने का कन्फर्मेशन और डिटेल्स भेज देता है,

आज ये सभी कम ऑनलाइन होता है, और इन्टरनेट की मदद से हमें स्टॉक ब्रोकर द्वारा दिए गए सॉफ्टवेयर की हेल्प से हम अपने ट्रेडिंग अकाउंट में लोग इन करके, उसमे फण्ड को पहले ऐड करते है, फिर स्टॉक खरीदने का आर्डर दे सकते है, और आर्डर कम्पलीट होने पर हमारे ट्रेडिंग अकाउंट से पैसे कट जाते है, और हमें स्टॉक मिल जाते है,

ठीक इसी तरह जब हम स्टॉक बेचते है, तो स्टॉक बेचने पर मिलने वाली धनराशी हमारे ट्रेडिंग अकाउंट में जमा हो जाती है,

TRADING ACCOUNT खोलने के लिए आवश्यक DOCUMENTS

TRADING ACCOUNT ओपन करने के लिए स्टॉक ब्रोकर कम्पनी द्वारा मांगे जाने वाले सामान्य डाक्यूमेंट्स

  1. Pan card
  2. Photographs: Passport Size Photograph
  3. Address proof: आधार कार्ड /Voter id/Pass port/Driving license
  4. Income proof: Recent six months bank statement, ITR Form-16, recent pay slip any one
  5. Bank proof: Cancel cheque

TRADING ACCOUNT फ़ीस कितना होता है,

ट्रेडिंग अकाउंट का फीस, सभी स्टॉक ब्रोकर का अलग अलग हो सकती है, अगर सामान्य बात की जाये तो 200 से लेकर 1000 रूपये या उस से ज्यादा भी हो सकता है,

ऐसे में हमें ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करते समय, स्टॉक ब्रोकर का चुनाव करते समय ही स्टॉक ब्रोकर द्वारा अकाउंट खोलने के चार्जेज और ब्रोकरेज चार्ज और उसके द्वारा दी जाने वाली सारी सुविधाओं का ध्यान पहले ही रखना चाहिए,

जिस से की हमें ज्यादा फीस या ब्रोकरेज न Share market में अकाउंट कैसे खोलें? देने पड़े.

अगर पोस्ट अच्छा लगा तो नीचे अपना कमेंट या सवाल जरुर लिखे,

Trading Account Meaning in Hindi | ट्रेडिंग अकाउंट क्या है ?

Trading account meaning in Hindi

आज हम जानेंगे की Trading Account क्या होता है ? , Working Of Trading Account , Difference between trading account और Trading Account के लाभ क्या है ?

तो आइए जानते है इसके बारे में।

Table of Contents

ट्रेडिंग अकाउंट क्या होता है ? (Trading Account Meaning in Hindi) :

चाहे हमें शेयर बाजार में निवेश करना हो या ट्रेडिंग Trading Account तो खुलवाना ही पड़ता है।

इसका कारण यह है, की Trading Account से ही किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने का ऑर्डर स्टॉक एक्सचेंज पर भेजा जाता है।

Trading Account एक ऐसा खाता है, जिसमे निवेशक या ट्रेडर के पैसा जमा होते है।

यह Trading Account , निवेशक या ट्रेडर के डीमैट अकाउंट से लिंक कर दिया जाता है।

जिसकी वजह से शेयर खरीदने के बाद शेयर Demat अकाउंट में जमा हो जाते है।

और शेयर बेचने पर Demat Account में से शेयर निकल जाते है। Trading Account Meaning in Hindi

ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है ? (Working a of Trading Account)


Trading Account कुछ इस तरह काम करता है। Trading Account Meaning in Hindi

सबसे पहले निवेशक या ट्रेडर अपने Trading Account में पैसा जमा करते है।

उसके बाद वे जिस शेयर को खरीदना या बेचना चाहते है, उन शेयर का दाम देखते है।

इसके बाद वे उस शेयर के दाम के हिसाब से खरीदने या बेचने का ऑर्डर रखते है।

यह ऑर्डर Stock Exchange पर पहुँचता है।

इस ऑर्डर का Counter order मिल जाए तो यह ऑर्डर Execute हो जाता है।

अगर शेयर खरीदने का ऑर्डर रखा गया था तो शेयर ख़रीदे जाते है।

और इसके पैसे लगने वाले टैक्स और चार्ज के साथ ट्रेडिंग अकाउंट में से कट जाते है, और शेयर डीमैट अकाउंट में दो दिन में जमा हो जाते है।

लेकिन अगर शेयर बेचने का ऑर्डर रखा होगा तो शेयर बेच दिए जाएंगे और उसका पैसा टैक्स और ब्रोकरेज काट कर ट्रेडिंग अकाउंट में जमा कर दिया जाएगा।

इस तरह ट्रेडिंग अकाउंट काम करता है। Trading Account Meaning in Hindi

ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट के बिच का फर्क (Difference Between Demat and Trading Account):

ज्यादातर लोग Trading और Demat Account एक साथ खुलवाने की वजह से इन दोनों के बिच का फर्क नहीं जानते।

लेकिन इन दोनों के बिच बहुत बड़ा फर्क होता है।

Demat Account एक ऐसी जगह है जिसमे आपके द्वारा ख़रीदे गए शेयर को रखा जाता है।

इस लिए यह एक स्टोरेज की तरह होता है , जिसमे कोई शेयर खरीदने पर शेयर जमा होता है, और बेचने पर शेयर निकल जाता है।

जबकि Trading Account का उपयोग है, शेयर ख़रीदने और बेचने के लिए ऑर्डर रखने की सुविधा देना।

ट्रेडिंग अकाउंट में पैसा जमा रखा जा सकता है, जबकि डीमैट अकाउंट में पैसा जमा नहीं होता। Trading Account Meaning in Hindi

ट्रेडिंग अकाउंट के लाभ (Benefits of a Trading Account) :

  • बदलती टेक्नोलॉजी के कारण Online Trading की सुविधा से शेयर की खरीद बिक्री बहुत ही आसान हो गई है।
  • शेयर खरीदने पर पैसा कटना और बेचने पर पैसा जमा होना यह सभी ऑटोमैटिक हो जाता है।
  • ऑनलाइन ट्रेडिंग की सुविधा की वजह से लिखित या कॉल कर के ऑर्डर देने की जरुरत नहीं रहती। और भेजा गया ऑर्डर बहुत जल्दी कम्पलीट हो जाता है।
  • सिर्फ एक मोबाइल के द्वारा किसी भी जगह से शेयर खरीद और बेच सकते है।

ट्रेडिंग अकाउंट क्या है?

ट्रेडिंग अकाउंट एक एलेक्ट्रोनिक अकाउंट है, जिसके द्वारा आप शेयर बाज़ार मे स्टॉक एक्स्चेंज मे शेयर खरीदने या बेचने का order भेज सकते है।

ट्रेडिंग अकाउंट कैसे बनता है?

ट्रेडिंग अकाउंट बनाने के लिए आपको किसी ब्रोकर से संपर्क करना Share market में अकाउंट कैसे खोलें? होगा। आजकल तो ट्रेडिंग अकाउंट ऑनलाइन घर बैठे बैठे भी खुल जाता है। इसके लिए आप Online Trading और demat account कैसे खोले पढ़ सकते है।

ट्रेडिंग और डिमेट अकाउंट मे फर्क क्या है?

ट्रेडिंग अकाउंट के द्वारा आप स्टॉक एक्स्चेंज से शेयर खरीद और बेच सकते है और डिमेट अकाउंट मे आप खरीदे हुए शेयर रख सकते है। यही ट्रेडिंग और डिमेट अकाउंट के बीच का फर्क है।

निष्कर्ष:

तो दोस्तों यह था Trading Account Meaning in Hindi .उम्मीद करता हु आपको इसके बारे में समज आ गया होगा, अगर आप ट्रेडिंग अकाउंट से जुडी और जानकारी चाहते है, तो आप ट्रेडिंग अकाउंट क्या है और कैसे खोले ? का यह पोस्ट पढ़ सकते है।

अगर आपके लिए यह जानकारी उपयोगी हो तो आप इस post को अच्छे star की रेटिंग देकर हमे मदद कर सकते है। (Star Rating देने का विकल्प आपको इस पोस्ट मे सबसे ऊपर Photo के नीचे मिलेगा।)

अभी Upstox जो की एक Discount Broker है, उसमे Trading और Demat अकाउंट free मे खोलने का offer चल रहा है।

तो जल्दी करिए और यहा से जानिए free मे कैसे खुलवाए अपना Share market में अकाउंट कैसे खोलें? Demat और Trading Account.

अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

By Gaurav

Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों की खरीद और बिक्री कैसे की जाती है?

शेयर मार्केट में निवेश शुरू करने के लिए आपको तीन अकाउंट (खातों) की जरूरत होती है. ये तीन अकाउंट हैं डीमैट अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और बैंक अकाउंट.

  • Connect@ Money9.com
  • Updated On - July 28, 2022 / 10:41 AM IST

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों की खरीद और बिक्री कैसे की जाती है?

शेयर मार्केट में निवेश शुरू करने के लिए आपको तीन अकाउंट (खातों) की जरूरत होती है. ये तीन अकाउंट हैं डीमैट अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और बैंक अकाउंट. हर अकाउंट का अपना एक अलग काम होता है, लेकिन ट्रांजैक्शन (लेन-देन) को पूरा करने के लिए तीनों एक-दूसरे पर निर्भर होते हैं. शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के लिए ये तीन अकाउंट होने चाहिए.

डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक बैंक अकाउंट के समान है. जैसे एक सेविंग अकाउंट (बचत खाता) पैसे को चोरी होने और किसी भी गड़बड़ी से बचाता है, वैसे ही एक डीमैट अकाउंट निवेशकों के लिए भी यही काम करता है. डीमैट अकाउंट या डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक रूप में शेयरों और सिक्योरिटीज को रखने की सुविधा देता है. ये अकाउंट फिजिकल शेयरों को डीमैट रूप में स्टोर (संग्रहित) करते हैं. फिजिकल शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया (प्रोसेस) को डिमैटेरियलाइजेशन कहा जाता है. जब भी ट्रेडिंग की जाती है तो इन शेयरों को डीमैट अकाउंट में क्रेडिट या डेबिट किया जाता है.

डीमैट अकाउंट के प्रकार (टाइप)

डीमैट अकाउंट खोलते समय Share market में अकाउंट कैसे खोलें? निवेशकों को अपने प्रोफाइल के मुताबिक डीमैट अकाउंट का चुनाव काफी सावधानी से करना चाहिए. कोई भी भारतीय मिनटों में ऑनलाइन डीमैट अकाउंट खोल सकता है. निवेशक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के साथ डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं. 5पैसा https://bit.ly/3RreGqO एक ऐसा ही प्लेटफॉर्म है जहां आप आसानी से अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं और ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं. डीमैट अकाउंट चार तरह के होते हैं.

1)- रेगुलर डीमैट अकाउंट

एक रेगुलर डीमैट अकाउंट भारतीय निवासी निवेशकों के लिए होता है जो केवल शेयर खरीदना और बेचना चाहते हैं और सिक्योरिटीज को जमा (डिपॉजिट) करना चाहते हैं. जब आप शेयर बेचते हैं तो शेयर अकाउंट से डेबिट हो जाते हैं. इसी तरह जब आप शेयर खरीदते हैं तो वो आपके अकाउंट में क्रेडिट हो जाते हैं. यदि आप फ्यूचर एंड ऑप्शन में ट्रेडिंग कर रहे हैं तो डीमैट अकाउंट की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि इस तरह की डील के लिए स्टोरेज की कोई जरूरत नहीं होती है.

2)- बेसिक सर्विस डीमैट अकाउंट

यह एक नए तरह का डीमैट अकाउंट है, जिसे बाजार नियामक (मार्केट रेगुलेटर) सेबी ने पेश किया है. छोटे निवेशकों को ध्यान में रखते हुए यह अकाउंट शुरू किया गया है. 50,000 रुपये से कम के स्टॉक और बॉन्ड रखने के लिए कोई मेंटेनेंस चार्ज (रखरखाव शुल्क) नहीं देना होगा. 50,000 रुपये से 2 लाख रुपये तक की सिक्योरिटी रखने पर सिर्फ 100 रुपये का चार्ज लगता है.

3)- प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Repatriable Demat Account)

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता NRI (अनिवासी भारतीयों) के लिए है. इसके जरिए वे भारतीय बाजार में निवेश कर सकते हैं और विदेशों में भी पैसा भेज सकते हैं. हालांकि फंड ट्रांसफर करने के लिए डीमैट खाते को NRI (Non-Resident External) खाते से जोड़ा जाना चाहिए.

4)- गैर प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Non-repatriable Demat Account)

अनिवासी भारतीयों (NRI) के लिए एक गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता भी है. हालांकि इस खाते के जरिए विदेश में पैसा ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है.

डीमैट अकाउंट के फायदे

डीमैट अकाउंट बिना किसी परेशानी के शेयरों को तेजी से ट्रांसफर करने की सुविधा देता है. शेयर या सिक्योरिटीज सर्टिफिकेट एक डीमैट अकाउंट में इलेक्ट्रॉनिक रूप से रखे जाते हैं. ऐसे में इनके चोरी, जालसाजी और नुकसान की संभावना बहुत कम होती है. ट्रेडिंग एक्टिविटी को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है. डीमैट खातों को कभी भी और कहीं भी एक्सेस किया जा सकता है. बोनस स्टॉक, राइट्स इश्यू, स्प्लिट शेयर अपने आप अकाउंट Share market में अकाउंट कैसे खोलें? में जमा हो जाते हैं.

डीमैट अकाउंट कैसे खोलें

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के लिए डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. आप किसी वित्तीय संस्थान या ब्रोकर के माध्यम से डीमैट खाता (अकाउंट) खोल सकते हैं. सबसे पहले आपको इसके लिए एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) चुनना होगा. यह एक वित्तीय संस्थान, ऑथराइज बैंक या ब्रोकर कोई भी हो सकता है. आप उनके साथ एक डीमैट खाता खोल सकते हैं. डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट को ब्रोकरेज चार्ज, सालाना चार्ज और लीवरेज के आधार पर चुना जाना चाहिए. DP सिलेक्ट करने के बाद आपको खाता खोलने का फॉर्म, KYC फॉर्म भरना होगा और फिर जमा करना होगा. इसके साथ आपको कुछ डॉक्युमेंट भी देने होंगे.

इनमें पैन कार्ड, रेजिडेंस प्रूफ, आईडी प्रूफ और पासपोर्ट साइज फोटो शामिल हैं. वेरिफिकेशन प्रोसेस (सत्यापन प्रक्रिया) के लिए ओरिजनल कॉपी (मूल प्रति) अपने पास रखें. इसके अलावा आपको बैंक डिटेल देने के लिए एक कैंसिल चेक (रद्द चेक) जमा करना होगा. इसके बाद आपको एग्रीमेंट साइन करना होगा जिसमें रूल और रेगुलेशन के साथ-साथ आपके अधिकारों के बारे में सभी जानकारी होगी. आपको रूल और रेगुलेशन (नियमों और विनियमों) को ध्यान से पढ़ना चाहिए. आजकल कई प्लेटफॉर्म ऑनलाइन डीमैट खाता खोलने की सुविधा देते हैं. अपने डीमैट की सरल प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आप अपना डीमैट खाता खोल सकते हैं.

एक सवाल, 40 हजार का इनाम और अकाउंट खाली: इंस्टा पर लड़की समझकर चैट कर रहा था आगरा का युवक

यह सिर्फ खबर नहीं, सबक भी है। अगर आपको को मैसेज से कोई महिला इनाम का ऑफर दे रही है। तो सावधान हो जाइए। क्योंकि साइबर ठग अब महिलाओं की प्रोफाइल बनाकर आपको मैसेज कर रहे हैं। वो पहले अपनी बातों में आपको उलझाते हैं। फिर सवाल पूछते हैं और कहते हैं कि सही जवाब देने पर आपको इनाम मिलेगा। जैसे ही आप जवाब देते हैं। उधर से मैसेज है आता है। आप जीत गए हैं। फिर आपका गूगल पे नंबर मांगते है। इसके बाद ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का पेडिंग स्क्रीन शॉट भेजते हैं। फिर कहते हैं कि मैं आपके मेल पर एक लिंक भेज रहा हूं। इस पर क्लिक करिए जैसे ही आप लिंक पर क्लिक करते हैं। आपके अकाउंट से पैसे कट जाते हैं।

ऐसा ही वाकया आगरा के रवि कुमार के साथ हुआ है। वो शास्त्रीपुरम में दुकान चलाते हैं। रवि ने बताया कि सोशल मीडिया पर इंस्टाग्राम अकाउंट बनाया था। एक महिला की आईडी को फॉलो किया। इसके बाद महिला ने उन्हें Hi लिख भेजा और बातचीत शुरू की।

थोड़ी-सी बातचीत के बाद सीधे इनाम देने का ऑफर आता है।

उनके जवाब देते ही महिला ने उनसे सवाल पूछा कि एक अंधी लड़की की पेंसिल, अंगूठी और कुत्ता खो गया है। बताओ पहले क्या खोया था? जवाब में रवि कुमार ने कुत्ता खोने की बात बताई और महिला ने तत्काल सवाल का सही जवाब देने के लिए उन्हें इनाम के 40 हजार भेजने के लिए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए नंबर मांगा। नंबर देने के बाद महिला ने एक स्क्रीन शॉट भेजा। इसमें 40 हजार पेंडिंग दिख रहे थे। फिर महिला ने मेल आईडी मांगी और उस पर एक लिंक भेजा। जैसे ही रवि ने लिंक पर क्लिक किया तो उनके खाते में पड़े 3 हजार रुपए कट गए।

ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का स्क्रीन शॉट भेज कर भरोसा दिलाते हैं फ्रॉड।

रवि के अनुसार, सोमवार को वो साइबर सेल में शिकायत करने जाएंगे। घटना के बारे में साइबर एक्सपर्ट अभिषेक शर्मा ने बताया कि सोशल मीडिया पर अनजान लोगों से बात करने से बचना चाहिए। यह ध्यान रखना चाहिए कि अगर कोई किसी भी तरह का प्रलोभन दे रहा है तो जरूर वो कुछ गलत करने वाला है। अपने पासवर्ड और अन्य गोपनीय जानकारी किसी से साझा नहीं करनी चाहिए। बिल्कुल इसी तरह की घटना कमलानगर निवासी कपिल पंडित के साथ भी हुई।

  • खबर में पोल भी है। आगे बढ़ने से पहले इसमें हिस्सा ले सकते हैं।
  • साइबर ठगी के कुछ तरीके और इनसे सावधान रहने के बारे में बताते हैं.

साइबर ठग फर्जी लिंक तैयार कर वॉट्सऐप और फेसबुक के जरिए नामी ऑनलाइन कंपनियों के प्रोडक्ट का ऑफर दे रहे हैं। ठग 4जी से 5जी नेटवर्क में सिम बदलने और सामानों की खरीदारी पर भारी छूट दे रहे हैं। ऐसे में जैसे ही लिंक पर आप क्लिक करके एप्लिकेशन फॉर्म भरते हैं। उसके कुछ देर बाद आपका अकाउंट खाली हो जाता है और रुपए कटने का मैसेज आने के बाद ठगी का पता चलता है।

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 860